आर्थिक संकट व अपेक्षित परिणामों पर मौन केंद्रीय बजट 2019-20

गए आम चुनावों में भारतीय जनता पार्टी ने देशवासियों से कोई ठोस भौतिक वादे किये ही नहीं थे इसीलिए यह केंद्रीय बजट सिर्फ देशी और विदेशी पूंजीपतियों की ताबेदारी करता है। बजट की इब्तिदाई कथन में ही भाजपा सरकार मानती है कि ‘इंडिया इंक’ यानि भारत की निजी बड़ी कंपनियां ‘रोजगार के सृजनकर्ता हैं’ और […]

Continue reading


May Day 2019

This May Day comes in the face a persistent decline in wages, rising working hours and in the midst of the greatest jobs crisis in last 50 years. The last 5 years have given us a government led by the Bharatiya Janata Party that has intensified the 25 year old neo-liberal phase with strongest commitment […]

Continue reading