न्यू ट्रेड यूनियन इनिशिएटिव डाइकिन श्रमिकों की गिरफ़्तारी और उन पर हुए निर्मम हमले की कठोर निंदा करती है

न्यू ट्रेड यूनियन इनिशिएटिव डाइकिन ऐरकण्डीशनिंग इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के 14 श्रमिकों की गिरफ़्तारी और राजस्थान पुलिस द्वारा नीमराना में 8 जनवरी 2019 को आम हड़ताल की अगुवाई कर रहे श्रमिकों पर हुए अकारण हमले की कठोर निंदा करती है।

भाजपा सरकार की जन-विरोधी एवं श्रमिक-विरोधी नीतियों के खिलाफ दिल्ली-मुंबई औद्योगिक कॉरिडोर में कार्यरत श्रमिकों ने एकजुट हो कर एक भव्य मोर्चा निकाला, जिसमें डाइकिन एयर कंडीशनर वर्कर्स यूनियन के सदस्य शामिल रहे। डाइकिन श्रमिकों ने शांतिपूर्ण रैली निकाली जिसका समापन फैक्ट्री गेट पर यूनियन का झंडा फहरा कर किया गया।

प्रबंधन के गुंडों और प्रबंधन के ही इशारे पर काम कर रही पुलिस ने श्रमिकों के शांतिपूर्ण सभा पर अकारण ही लाठी-चार्ज किया, आंसू गैस के गोले फेंके और छर्रे चलाए। इस प्रक्ररण में 40 से अधिक मजदूर गंभीर रूप से घायल हो गए, जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा। पुलिस ने 17 श्रमिकों और 700 अन्य लोगों के खिलाफ झूठी प्राथमिकी दर्ज कर भारतीय दंड संहिता की धारा 147, 148, 149, 332, 353, 307, 427 और 336 के अंतर्गत गैर-क़ानूनी सभा करने, दंगा फ़ैलाने, लूट-पाट करने, हत्या की कोशिश और सरकारी कर्मचारी को कार्य वहन करने से रोकने के आरोप लगाए हैं। पुलिस ने 14 श्रमिकों (महेश, सुरेंद्र कुमार, घनश्याम, जगदेव, दीप सिंह, अजय, सुखराम, अविनाश चंद, प्रवीण कुमार, पंकज चौधरी, रणजीत कुमार, अजय ठाकुर, सुनील कुमार और लाल चंद) को 8 जनवरी की मध्य-रात्रि में हिरासत में ले लिया, जिन्हें आज बहरोड़ अदालत ने बेल देने से इंकार कर दिया। ये गिरफ्तार श्रमिक उन 17 श्रमिकों से भिन्न हैं जो पुलिस की प्राथमिकी में नामजद हैं।

नीमराना स्थित दिल्ली-मुंबई औद्योगिक कॉरिडोर जहाँ वैश्विक उत्पादन कंपनियों का जमावड़ा है, यूनियन-मुक्त क्षेत्र जैसा है जहाँ अनवरत श्रमिक अधिकारों का हनन होता है। डाइकिन के मजदूर अपने पसंद की यूनियन का गठन करने के कारण गत कई वर्षों से दमन का शिकार होते रहे हैं। पिछले साल जब आखिरकार यूनियन का पंजीयन हुआ, तब से प्रबंधन का श्रमिकों पर हमला बढ़ गया है। प्रबंधन के इशारे पर हुआ यह अकारण पुलिसिया हमला मजदूरों के यूनियन की शक्ति पर सीधा-सीधा हमला है और उनकी आवाज़ दबाने की ओर केंद्रित है।

एन.टी.यु.आई डाइकिन एयर कंडीशनर वर्कर्स यूनियन के सदस्यों और नीमराना क्षेत्र के उन सभी मजदूर साथियों के जज़्बे को सलाम करता है जो इस दमन के खिलाफ संघर्षरत हैं।

एन.टी.यु.आई यूनियन के सभी सदस्यों, झूठे मुक्कदमे में गिरफ्तार साथियों और पुलिसिया दमन में घायल हुए श्रमिकों और उनके परिवारों के साथ कंधे से कंधे मिला कर खड़ा है।

न्यू ट्रेड यूनियन इनिशिएटिव मांग करती है कि:

• 8 जनवरी को गिरफ्तार किये गए सभी मजदूरों को तत्काल रिहा किया जाए
• 17 नामजद मजदूरों और 700 अन्य लोगों के खिलाफ दर्ज की गयी प्राथमिकी को फ़ौरन निरस्त किया जाए
• मजदूरों पर हमला करने वाले प्रबंधन के गुंडों पर पुलिस कार्यवाही करे
• राजस्थान सरकार नीमराना पुलिस के इस निंदनीय कृत्य की जांच करे
• राजस्थान सरकार सुनिश्चित करे की डाइकिन प्रबंधन श्रमिक विरोधी गतिविधियाँ बंद करे, और
• यह सुनिश्चित करे कि श्रम विभाग अपनी जिम्मेदारियाँ निभाए, डाइकिन प्रबंधन और डाइकिन एयर कंडीशनर वर्कर्स यूनियन के बीच सही त्रिपक्षीय करार हों

किसी एक भी मजदूर की अपने पसंद की यूनियन बनाने या यूनियन में शामिल होने के अधिकार का हनन पूरे मेहनतकश वर्ग के संगठन बना सकने के अधिकार पर हमला है।

गौतम मोदी
महासचिव

Click here to read in English